You are here
Home > Latest news > कांग्रेस में अध्यक्ष पद का चुनाव : दिखावा और औपचारिकता

कांग्रेस में अध्यक्ष पद का चुनाव : दिखावा और औपचारिकता

0Shares

फाइनली राहुल गाँधी ने आज कांग्रेस अध्यक्ष पद का फॉर्म भर दिया । उनका ये पारिवारिक कार्यक्रम भी बिबादो से दूर नहीं रहा । उनके ही एक एक रिस्तेदार शाहजाद पूनावाला ने रंग में थोड़ा सा भंग दाल दिया । शाहजाद पूनावाला रोबर्ट वाड्रा के रिस्तेदार भी है, तो ये झगड़ा भी पारिवारिक ही है । हम पारिवारिक कार्यक्रम इसलिए कह रहे है क्यूंकि उनकी मम्मी ही कोंग्रस की राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर पिछले २२ सालो से काबिज़ है । और उन्होंने ये ताज अपने बेटे को दे दिया है ।

कांग्रेस के राष्ट्रिय अध्यक्ष का चुनाव बस एक दिखावा और औपचारिकता मात्र है, जिसपे अब पूरी तरह से गाँधी परिवार का कब्ज़ा है । कोंग्रस में अभी राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वयं सोनिया गाँधी है, और उनके पुत्र राहुल गाँधी उपाध्यक्ष है । और अब शायद निर्विरोध अध्यक्ष भी हो जायेंगे जिसकी प्रबल उम्मीद है । कांग्रेस जो अपने को देश की सबसे पड़ी लोकतांत्रिक पार्टी कहती है अब एक परिवार की पार्टी हो गयी है । जिसका राष्ट्रीय अध्यक्ष गाँधी परिवार का ही कोई सदस्य होगा ।

आज सुबह सुबह राहुल गाँधी लाल टिका लगा के पार्टी ऑफिस में अध्यक्ष पद का फॉर्म भरने के लिए पहुँचे । उससे पहले राहुल गाँधी ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के घर जाकर दोनों लोग से मुलाकात किया । माना जा रहा है की राहुल गाँधी के कोंग्रस अध्यक्ष पद के लिए प्रस्तावक के रूप में पूर्व प्रधामंत्री डाक्टर मनमोहन सिंह जी, गुलाम नवी आजाद, शीला दीक्षित, और देशभर से लगभग 50 लोगो को बनाया जा सकता है ।

जब राहुल गाँधी कोंग्रस दफ्तर परचा दाखिल करने गए तो वंहा पर शीला दीक्षित, मधुसूदन मिस्त्री, ज्योतिरादित्य सिंधिया, गुलाम नवी आजाद, कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धरमैया, पंजाब के मुख्यमंत्री कॅप्टन अमरिंदर सिंह, जितिन प्रसाद, और कांग्रेस दफ्तर के बाहर सैकड़ो कांग्रेस कार्यकर्ता राहुल गाँधी के नारे लगा रहे थे । यदि कल तक कोई और कंडीडेट फॉर्म नहीं भरता है तो पांच तारीख के शाम तक राहुल गाँधी को कांग्रेस अध्यक्ष घोषित कर दिया जायेगा ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस के ऊपर बहुत तीखा हमला बोलते हुवे कहा की “बादशाह का बेटा बादशाह बनता है, औरंगजेब राज उनको मुबारक” तो कोंग्रस ने भाजपा पर एल. के. आडवाणी, यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी, मुरली मनोहर जोशी, केशु भाई पटेल, संजय जोशी को साइड लाइन करने का आरोप लगाया ।

Top