You are here
Home > Latest news > अपने अण्णा फिर से आये है मैदान में 23 मार्च को दिल्ली चलने के आवाहन के साथ

अपने अण्णा फिर से आये है मैदान में 23 मार्च को दिल्ली चलने के आवाहन के साथ

0Shares

जयप्रकाश नारायण के बाद पुरे देश को एक साथ एक आंदोलन में जोड़ने वाले अण्णा हज़ारे बहुत दिनों से शांत थे, लेकिन फिरसे वापसी करने का मूड बना लिए है। अण्णा हजारे मोदी सरकार के खिलाफ आंदोलन करने की चेतावनी दे चुके है, की ये सरकार भ्रस्टाचार रोकने में पूरी तरह से बिफल रही है । किसानो के कर्जमाफी का मुदा, और किसानो पे हो रहे अत्याचार के मुद्दे के साथ 23 मार्च को दिल्ली आने का आवाहन कर रहे है ।

पिछली बार जब अण्णा ने आंदोलन किया था तो पुरे देश ने उनका साथ दिया था, लेकिन देश के लोगो के साथ और खुद अण्णा के साथ उनके करीबी और आंदोलन के साथीगण ने जो धोखा किया उससे आज तक न ही देश के लोग, और ना ही अण्णा खुद ही उबर पाए है ।

“इंडिया अगेंस्ट करप्सन” नाम की संस्था बनाके देशभर के लोगो को जोड़ने वाले आंदोलनकारी अरविन्द केजरीवाल और उनके साथियो ने लोगो के साथ बड़ा छल करते हुवे आम आदमी पार्टी का गठन बिना अण्णा के मर्जी के कर लिया और “इंडिया अगेंस्ट करप्सन” में मिले चंदे में भी घोटाला की जो बात बाद में लोगो के सामने आयी । अण्णा हज़ारे ने इस बार अरविन्द केजरीवाल और उनके साथियो को आंदोलन से दूर रहने को कहा है ।

अण्णा हज़ारे अपने पुराने साथियो को फिरसे इक्क्ठा करने में लगे हुवे है और एक बड़ा आंदोलन, भ्रस्टाचार, लोकपाल बिधेयक और किसानो के मुद्दों पर करने की तैयारी मोदी सरकार के खिलाफ कर रहे है । अण्णा किसानो के फसल के वाज़िब मूल्य नहीं मिलने और आत्महत्या के मुद्दे पे सरकार को घेरने का रूप रेखा तैयार कर चुके है ।

आंदोलन के सिलसिले में आज विश्व “बिख्यात खजुराहो मंदिर आये अण्णा ने मंदिर की दीवार पे नारा लिखा की, 23 मार्च को दिल्ली चलो” । साथ ही एनडीए सरकार पर उद्योगपतियों की सरकार होने का भी आरोप लगाए और कहा की ये सरकार उद्योगपतियों के तो लाखो करोड़ो रुपये माफ कर रही पर किसानो के फसलों का सही दाम और सुविधा देने में असफल रही है ।

Top