You are here
Home > Latest news > अयोध्या राम मंदिर पे सुनवाई 2019 के बाद हो : सुन्नी वक्फ़ बोर्ड के वकील और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल

अयोध्या राम मंदिर पे सुनवाई 2019 के बाद हो : सुन्नी वक्फ़ बोर्ड के वकील और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल

0Shares

राम मंदिर के मुद्दे पर आज से सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू हो गयी है । सुप्रीमकोर्ट ने दोनों पक्षों को कोर्ट के बाहर मामले पर सहमति बनाने के लिए कहा था । लेकिन कोर्ट के बहार दोनों पक्षों ने समझौता करने से इंकार कर दिया । सुप्रीमकोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस नजीब तीन जजों की बेंच इसकी सुनवाई कर रही है । आज सुप्रीमकोर्ट में सुनवाई के दौरान कांग्रेस नेता और सुन्नी वक्फ़ बोर्ड के वकील कपिल सिब्बल ने अजीब मांग रख दिया की राममंदिर पे सुनवाई 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद शुरू हो ।

राममन्दिर विवाद देश का सबसे बड़ा विवाद है जिसे हल करने की जिम्मेदारी अब सुप्रीमकोर्ट पर है । यह एक बहुसंख्यक समाज से जुड़े आस्था का मामला है । जिसपे सीधा फैसला देना सुप्रीमकोर्ट के लिए आसान नहीं होने वाला है ।

कपिल सिब्बल के सुप्रीमकोर्ट से 2019 के बाद सुनवाई करने की अपील करने के बाद सोशल मीडिया और भाजपा नेताओ ने उनको आड़े हाथो लिया ।भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने बहुत आक्रामक होते हुवे कांग्रेस के कथनी और करनी में फर्क से जोड़ दिया और बोले की राहुल गाँधी दिखावे के लिए मंदिर मंदिर जा रहे है, और कांग्रेस नेता भगवान् राम के मंदिर बनाने से कैसे रोका जाये इसके लिए उपाय खोज रहे है । कपिल सिब्बल पे बोलते हुए उन्होने कहा की कांग्रेस को जब कोई गलत काम का बचाव करना होता है तो उसके लिए कपिल सिब्बल को सामने लाती है और इस देश के सभी गलत मुकदमे कपिल सिब्बल जी ही लड़ते है ।

भाजपा राममंदिर पर कांग्रेस को अपना स्टैंड क्लियर करने को कह रही है । कपिल सिब्बल के मांग पर सोशल मीडिया का रिएक्शन और भाजपा नेताओ के ट्वीटर बम…

Top